top of page

श्री विश्व समर्थ विलेज फाउंडेशन द्वारा आयोजित किसानों एवं कारीगरों पर केन्द्रीत भव्य प्रदर्शनी 10 से 14 मई को मुबंई में


श्री विश्व समर्थ विलेज फाउंडेश अपने स्वाभियान परियोजना अंतर्गत 10 से 14 मई को मुंबई में किसानों एवं कारीगरों की बाजार तक पहुंच बढ़ा


ने को लेकर आनलाइन एवं आफलाइन विपणन प्रणाली के माध्यम से जोड़ने भव्य प्रदर्शनी का आयोजन कर रहा है। इस कार्यक्रम में देशभर के किसान उत्पाद संगठन एवं कारीगरों को आमंत्रित किया गया है।


नीचे उल्लेखित श्रेणी अनुसार आप भी इस प्रदर्शनी में शामिल हो सकते हैं।


मुख्य आकर्षण

1. भौगोलिक दृष्टि से घनी आबादी वाले क्षेत्र में आयोजन।

  2. कुल आयोजन क्षेत्र 43000 वर्ग फुट वातानुकुलित

3. अलग से खुला पार्किंग क्षेत्र 21500 वर्ग फुट। 

4. अखिल भारतीय स्तर के लगभग 400 किसान - कारीगर,महिला उद्यमी, सूक्ष्म और लघु उद्योग, छोटे उद्यमी रहेंगे शामिल

  5. मिनी स्टाॅल को छोड़कर जो भी हमारे पंजीकृत वेंडर बन जाते हैं उन्हे साल भर मुंबई एवं पुणे में ऑनलाइन ऑफलाइन की सुविधा मिलेगी ।

  6.  5 दिनों तक लगभग 5 से 7 लाख दर्शकों के लिए सभी मीडिया में विज्ञापन अभियान ।

7. सोशल मीडिया पर पेड विज्ञापन जिसमें फेसबुक, इंस्टाग्राम, गूगल विज्ञापन , ट्विटर, लिंक्ड इन    एवं जैविक अभियान।

8. एमएमआरडीए, मुंबई  के आसपास आगुंतकों को आकृषित करने ईमेल, एसएमएस, समाचार साइट, होर्डिंग के माध्यम से प्रचार-प्रसार।

9.  वांछित भीड़ पाने और प्रतिभागियों को प्रेरित करने हर दिन सेलिब्रिटी आएंगे । 

  10. मिनी स्टॉल, नियमित स्टॉल , किंग साइज स्टॉल  के साथ 18 और 50 वर्ग मीटर के मंडप रहेंगे।

11. अनेकता में एकता पर केन्द्रीत देश की विभिन्न व्यंजनों के खाद्य स्टाल शामिल रहेंगे 

12 . पैन इंडिया एफपीओ, प्रमाणित ऑर्गेनिक , एवं स्वास्थ्य वर्धक मिलेट अनाज,दाले एवं बाजरे के उत्पाद खुले मार्केट श्रेणी में उपलब्ध रहेंगे । 

13 कई विषय विशेषज्ञों द्वारा संबंधित विषयों पर सम्मेलन ।

14 .राष्टीय एवं राज्य स्तर के ब्रांडेड खाद्य उत्पाद के निर्माणकर्ता भाग लेंगे।

 

 भाग लेने वाले उद्योगों की अस्थायी सूची

1.    किसान उत्पादक संगठन जो अनाज और किराना उत्पादों की आपूर्ति करना चाहते हैं एवं अपने ब्रांड , एमआरपी के साथ सीधे उपभोक्ताओं तक पहुंच चाहते हैं उनके सदस्य 

2.     किसान संगठन या उनके एसएचजी या एनजीओ जो प्रमाणित जैविक लैब से 0% अवशेष का परीक्षण किया गए प्राथमिक उत्पाद एवं 0% भारी धातु 0% यूरिक एसिड स्वास्थ्य रक्षक एवं  प्राथमिक बूस्टर अनाज आपूर्ति कर सकते हैं ।

3.   लैब से प्रमाणित उत्पाद बेचने वाले संगठन ,एवं मिलेट उत्पाद

4. जीआई टैग वाले अनाज, प्राथमिक उपज और अन्य जीआई टैग वाले कृषि उपज  जो टैग किया गया हो।

5. हर्बल, आयुर्वेदिक खाद्य पूरक और अन्य स्वास्थ्य वर्धक उत्पाद।

6. गैर सिंथेटिक आधारित सुगंध, इत्र, साबुन, स्वच्छता उत्पाद।

7. हर्बल सौंदर्य प्रसाधन, अन्य सौंदर्य उत्पाद एवं व्यक्तित्व निखारने वाले उत्पाद।

8. मूल देसी अनाज और बायो फोर्टिफाइड कृषि उपज।

9. जनजातीय खाद्य उत्पादए कला उत्पाद

10 . कोल्ड प्रेस्ड तेल

11 हाथ से पिसा हुआ आटा

12. गैर-रासायनिक प्रक्रिया द्वारा तैयार गुड़

13 . ए-2 घी

14. अचार, चटनी, मसाले,

15. बाजरा आधारित और अन्य खाने और पकाने के लिए तैयार उत्पाद।

16. तैयार खाने के लिए तैयार उत्पाद।

17 भारतीय गाय के गोबर से बने उत्पाद।

18. कृषि-पर्यटन, प्राकृतिक चिकित्सा, औषधि रहित चिकित्सा, पंचगव्य चिकित्सा

19. अखिल भारतीय कारीगर के रेशम, कपास, जूट के परिधान और अन्य जैविक रेशों वाले कपड़ों के स्टॉल एवं   हस्तशिल्प.बांस, हाथ से बने कागज, 5 धातु, लकड़ी, चमड़ा के उत्पाद।

मिट्टी के बर्तन, पेंटिंग आदि।

20. मृदा परीक्षण लघु प्रयोगशालाएँ

21. सौर एवं ड्रोन प्रणाली

22. सैटेलाइट कनेक्टिविटी, कृषि स्टार्ट-अप. नर्सरी, इंजीनियरिंग उत्पाद,

स्प्रिंकलर, ड्रिप सिंचाई, हाइड्रोपोनिक्स, रसोई खेती,

23 डी कंपोस्ट ग्रीन और पॉली हाउस, जैविक और जैव-प्रौद्योगिकी उर्वरक, स्प्रे

24. नर्सरी

25 .प्रकृति की सुरक्षा से जुड़ा कोई अन्य उत्पाद या सेवाएँ।

 मनुष्य़,जानवऱ से जुड़ें पौधे़, 5 तत्व 

 प्रस्तावित सम्मेलनों की सूची

1. उत्पादक,द्वार से उपभोक्ता,द्वार

2. गाय आधारित प्राकृतिक खेती.

3 . प्रमाणित जैविक खेती

4. कार्बन क्रेडिट

5. पुनः वनरोपण

6. शहरी परिवारों के लिए छत पर खेती

7. किसान सशक्तिकरण में कृषि विश्वविद्यालयों की भूमिका।

8. आज की प्रमुख जानलेवा बीमारियों लिए पंचगव्य, पंच-तत्व और औषधि,रहित उपचार

9. खेती में जैव और नैनो प्रौद्योगिकियों की भूमिका

10. कृषि में , ड्रोन, उपग्रहों की भूमिका

11.कृषि के लिए एंड.टू.एंड इको सिस्टम का महत्व,  प्रबंधन एवं सशक्तिकरण

 12. जैविक उत्पादों के निर्यात के अवसर।

नोट- आयोजक की अनुमति से कोई अन्य विषय प्रदर्शनी से पूर्व जोड़ा या हटाया जा सकता है ।

13 views0 comments

Comments

Rated 0 out of 5 stars.
No ratings yet

Add a rating
bottom of page